25.3 What Is Riveting Joint, Types of Riveting Joint In Hindi | रिवटिंग जॉइंट क्या होता है, रिवटिंग जॉइंट कितने प्रकार के होते है

Share:
What-Is-Riveting-Joint-In-Hindi


Types Of Riveting Joint

Riveting joint दो प्रकार के होते है.

1. Lap Joint
2. Butt Joint

1. Lap Joint

Lap joint में जब दो plate के सिरे को एक-दूसरे के उपर चढाकर rivet के द्वारा जोड़ा जाता है. उसे lap joint कहते है.

Types Of Lap Joint

Rivets की row के अनुसार lap joint भी कई प्रकार के होते है.

(i). Single Riveting Lap Joint
(ii). Double Riveting Lap Joint
(iii). Triple Riveting Lap Joint

(i). Single Riveting Lap Joint

जिस joint में riveting एक row हो या line हो उसे single riveting lap joint कहतें है.

(ii). Double Riveting Lap Joint

जिस joint में rivet की दो पक्तियां हो उसे double riveting lap joint कहते है.

(iii). Triple Riveting Lap Joint

जिस joint में rivet की तीन पक्तियां हो उसे triple riveting lap joint कहते है.

Zig Zag Riveting

जोड़ने वाली plate में two row हो और असमांतर अथार्त z की आकृति में हो उसे zig zag riveting कहते है.

Chain Riveting

जोड़ने वाली plates में rivets में two row हो और rivet एक-दूसरे के समांतर हो उसे chain riveting कहते है. इसमें row plate 2D+6mm होती है.

Types Of Butt Joint

(i). Single Riveting Single Cover Butt Joint
(ii). Double Riveting Double Cover Butt Joint

(i). Single Riveting Single Cover Butt Joint

इस joint में एक cover plate और rivet की two row हो उसे single riveting single cover butt joint कहते है. इस joint में back pitch and two row pitch 3D होती है. Single cover की thikness T1=1.125T होती है. Double cover plate की thikness T2= 0.625T होती है.

(ii). Double Riveting Double Cover Butt Joint

इस joint में दो cover plate और जोड़ने वाली plate की हर side पर rivet का two row हो double rive कहलाती है. इस joint में cover plate का thikness T2=0.625+होती है. यह joint भी zig zag और chain type दोनों हो सकते है.

Failure Of Riveted Joint: Rivet joint फैल होने के क्या-क्या कारण है.

Rivet joint design करते समय या जोड़ते समय दो पार्ट्स को जोड़ने के पश्चात निम्न कारणों से joint फैल हो जाते है. तो आइए इसके बारे में विस्तार से जाते है.

1. Tearing Of The Plate

Tearing of the plate between the rivets if they are very nearst each others.

2. Tearing Of The Plate

Between hole end of the plate and rivet if they are very nearst to end the plates.

3. Sheering Of Rivet

If the rivet is the diameter of rivet is smaller then resserry.

4. Crusing Of Plates And Rivets

Rivets head over use stugred यानी की (उबड़- खाबड़) to the plates and cress the head and plates.

5. Length Of The Rivets

If the lengthof the rivets is more then the thikness of plates.

6. Boran Of Drilling Hole

Drilling का hole टेढ़ा-मेढ़ा होने के कारण भी rivet joint फैल हो सकते है.

7. Setting Of The Rivets

कई कबार rivets की setting सही ना बैठने के कारण भी  rivet joint फैल हो सकते है.

8. More Then Rivets Hole

Plates में ज्यादा hole करने के कारण भी  rivet joint फैल हो सकता है.

No comments