23.1 What Is Key, Cotter and Joint In Mechanical Engineering & Type Of Key In Mechanical Engineering. Key क्या है और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में key कितने प्रकार की होती है

Share:
what-is-key-cotter-and-joint-in-engineering-drawing-hindi-language-part-1

INTRODUCTION: Engineering line में किसी भी मशीन के एक part से दुसरे parts तक power transmission के लिए pulley या gears का प्रयोग किया जाता है. जब किसी मशीन के parts के अंदर लगी हुई cylindrical road घुमती है. उस समय का parts स्थिर रहता है. इसी वजह से हम कभी भी एक parts से दुसरे parts तक power transmission नही कर सकते है. Pully या gears को shaft पर fit करते है तो मशीन चलाने पर shaft और Pully नही घुमती है. अगर Pully और shaft एक साथ नही घूमेगी तो power transmission भी नही होगी.Engineering line में Pully और shaft की relative moment को रोकने के लिए key का प्रयोग किया जाता है. जिससे दोनों पार्ट्स एक हो जाते है. Key को डालने के लिए shaft और hub में key way कटा होता है. Key हमेशा आधी shaft में तथा आधी hub के key way में डाली जाती है. Key temporary fastening के लिए प्रयोग की जाती है.

What Is Key In Mechanical Engineering & Type Of Key In Mechanical Engineering. Key क्या है और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में key कितने प्रकार की होती है 

What is key - key क्या है ?

Key एक metal का pies होता है जो shaft और hub के बीच में डाली जाती है. Key shaft और hub की relative moments को रोकने के लिए प्रयोग की जाती है. Key एक temporary fastening है जिसको हुम जब चाहें आसानी से निकाल सकते है. Key हमेशा shaft के parallel fit की जाती है. Key mild steel की बनी होती है.

What is key way - key way क्या होता है ?

Shaft और hub में key को fit करने के लिए जो axial groove कटा होता है . उसे key way कहते है.

Depth Of Immersion

Shaft में key की गहराई को key की Depth Of Immersion कहते है. Key हमेशा आधी shaft और आधी hub में fit की जाती है और हमेशा side से मापी जाती है.

Classification of key

वर्गीकरण के हिसाब से key को मुख्य दो भागों में बाटा गया है.
1. Sunk Key (Heavy Key या Dutty Key)
2. Saddle Key (Light Key)

1. Sunk Key

जब एक key shaft और hub में कटे हुए groove में डाली जाती है. उसे sunk key कहते है इस प्रकार की key आधी hub में और आधी shaft में डाली जाती है. Sunk Key heavy के लिए प्रयोग की जाती है.

Type Of Sunk Key

(i). Parallel Sunk Key
(ii). Tapper Sunk Key
(iii). Gib Head Key
(iv). Round And Pin Key
(v). Feather Key
(vi). Woodruff Key

(i). Parallel Sunk Key

Parallel sunk key rectangular square section में होती है व अपनी length की मोटाई और width में एक समान होती है और shaft के axis के parallel fit की जाती है. यह key आमतौर पर pully और gear में प्रयोग की जाती है.

(ii). Tapper Sunk Key

Tapper sunk key rectangular और square दोनों प्रकार की होती है. इस key में केवल upper surface पर transformed 1mm 100 taper होती है और नीचे वाला surface straight होता है. Key की thickness straight line बराबर होती है.

(iii). Gib Head Key

इस key का head gib जैसा होता है जिससे इसे key way में से आसानी से निकाला जा सकता है. यह key वहां पर प्रयोग की जाती है जहां पर किसी parts को बार-बार खोलना व मुर्मत के उद्देश्य से अलग-2 करना हो, इस key का बिना head वाला end taper होता है.

(iv). Round And Pin Key

यह round cross section key parallel और taper दोनों प्रकार की होती है. यह key आधी shaft और आधी hub में डाली जाती है. इस key के दोनों किनारें chamfer किए होते है.

(v). Feather Key

Feather key भी parallel key की तरह ही होती है. यह key shaft और hub को जोड़ने के लिए प्रयोग की जाती है. Feather key भी आधी shaft और आधी hub में डाली जाती है.

(vi). Woodruff Key

यह key लकड़ी की बनी होती है यह key मोटाई में एक समान होती है. इस key की बनावट semicircle जैसी होती है. key की round shape के अनुसार key shaft में round cut होता है. Key का round portion and straight portion hub में fit किया जाता है. यह key मोटाई में chamfer की होती है. यह key हल्की चलने वाली मशीन में प्रयोग की जाती है.

No comments