38.1 Shaft Coupling किसे कहते है, What Is Shaft Couplings In Hindi

Shaft Couplings किसे कहते है या Shaft Couplings क्या होती है ? What Is Shaft Couplings In Hindi

shaft-coupling-kise-khate-hai-in-hindi

Introduction:Engineering उत्पादन के अनुसार विभिन्न प्रकार के shaft आमतौर पर 6 फिट से लेकर 10 फीट तक की लम्बाई में उपलब्ध होती है. क्योकि लम्बी shaft की अपेक्षा में एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जाने में सुविधाजनक होती है. लम्बीं shaft सही बनावट में तैयार नही की जा सकती है. जिसके द्वारा शक्ति परिषण की जा सके. किन्तु औधोगिक क्षेत्र में समय-2 पर अधिक लम्बी shaft की आवश्यकता पड़ती है. तो ऐसी स्थिति में दो या दो से अधिक shaft को आवश्यकतानुसार आपस में जोड़कर उपयोग में लाया जाता है.

Shaft Couplings

Shaft के एक सिरे को दूसरें shaft सिरे से जोड़ने की क्रिया को shaft coupling कहते है. इसे कपलिंग युग्मन अथवा मिथुनक के नाम से भी जाना जाता है.

Types Of Coupling

विभिन्न प्रकार के कार्यो के अनुसार कपलिंग कई प्रकार की होती है, और बनावट एवं आकर में अलग-2 प्रकार की होती है. इसलिए coupling को alignment और जोड़ी जाने वाली shaft की केंद्र रेखाओं की स्थिति के अनुसार वर्गीकृत के नाम से भी जाना जाता है.

Rigid Or Fast Coupling

Rigid coupling दो shaft को एक अक्ष की सीध में जोड़कर एक मजबूत स्थिति में रखती है. यदि किसी दो shaft को अक्ष के साथ एक लाइन करके जोड़ा जाए तो उसे rigid coupling कहते है.

1. Solid Flange Coupling

इसे forged coupling भी कहते है. इसमें दो shaft को flange के साथ forged करके बनाया जाता है, तथा flange की मिलने वाली सतहों को अच्छी प्रकार मशीनीग किया हुआ होता है. Flange को आपस में head less taper bolt के द्वारा जोड़ा जाता है. एक flange के face के center के base में एक cylindrical व बेलनाकार भाग बनाया जाता है, और ठीक इस बढ़े हुए भाग के अनुसार दूसरें flange के center में खांचा बना हुआ होता है. जिसमे flange का पहला भाग आकर मजबूती से खाँचे में set हो जाता है. इसका प्रयोग marine engine shaft में प्रयोग किया जाता है.

2. Flange Coupling

यह एक प्रकार main coupling होती है. जो की standard माप में बनाई जाती है. इसका प्रयोग कपलिंग में विस्तार से किया जाता है, और flange प्राय: C.I के बनाए जाते है. परन्तु बाहरी कार्यो के लिए यह steel के ठोस बनावट में भी बनाए जाते है, तथा दो अलग-2 shaft के किनारों को key द्वारा fit किया जाता है. Key आमतौर पर square या आयताकार cross section में taper sunk key होती है. कभी-2 पक्तिवर के लिए flange के आपस में मिलने वाले सिरे के center में एक flange पर आगे निकला हुआ भाग projected position दुसरे में ठीक उसी प्रकार खांचे बने होते है, और दोनों flange को आपस में nut, bolt के द्वारा जोड़ा जाता है. यह flange coupling निम्न दो प्रकार की होती है.

(i). Protected Flange Coupling
(ii). Unprotected Flange Coupling

(i). Protected Flange Coupling

इस coupling में bolt के head तथा nut counter sunk या counter hole के अंदर fit किए जाते है. इस प्रकार nut और bolt fit रहने के कारण worker के हाथ और कपड़े सुरक्षित रहते है. जब nut और bolt को बाहरी सतह पर fit किया जाता है, तो worker के कपड़े इन bolt के साथ कार्य करते समय फसने का डर बना रहता है. Shaft को एक लाइन में रखने हेतु spigot और socket center के साथ बनाए गए होते है. जिसमे एक flange के center में बने खांचे के अनुरूप बना spigot fit करके मजबूती से nut, bolt के द्वारा कस दिए जाते है. जैसे-2 आयताकार taper key, flange के अंदर बढ़ाई जाती है. वैसे-2 flange आपस में कसकर मिल जाते है.

(ii). Unprotected Flange Coupling

इस कपलिंग में प्रत्येक साफ्ट आयताकार sunk key की सहायता से flange के base के साथ जुड़ी होती है. दोनों flange आपस में एक-दूसरें के साथ 4 या 6 nut, bolt की सहायता से जुड़े होते है, अथार्त key का प्रयोग shaft को मजबूती प्रदान करते हुए sunk में जोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है.

3. Box Or Muff Coupling

यह एक बंद box आकार की couppling है जिसकें अंदर दो shaft के छोर एक दूसरें से मिलते है. एक लम्बीं sunk taper key की दोनों shaft एक muff के बीच बने चाबी घाट में फिट किया जाता है. कभी-2 sunk taper key shaft तथा muff के दोनों सिरों के अंदर अलग-2 fit की जाती है. किन्तु दोनों shaft ke मिलने वाली जगह पर key के बीच कुछ खाली स्थान छोड़ना आवश्यक होता है. इसमें भारी कार्यो के लिए steel के बने muff प्रयोग किए जाते है. Muff का diameter तथा लम्बाई shaft के diameter से दोगुनी या तीनगुनी रखी जाती है. यह दो प्रकार की होती है.

(i). Half Lap Muff Coupling
(ii). Split Muff Coupling

(i). Half Lap Muff Coupling

यह भी box या muff coupling की तरह ही होता है. जिसमे shaft के दोनों छोर कुछ लम्बाई में एक दूसरें के उपर half lap करके रखें जाते है. एक दुसरे के उपर lep की जाने वाली सतह taper आकृति में बनी होती है. यह taper खिचाव करने पर shaft को अलग-2 होने से रोकती है. दोनों shaft द्वारा muff को आपस में जोड़ने के लिए इनके बीच बने चाबी घाट key way पर hellow saddle key प्रयोग की जाती है. इस muff की लम्बाई तथा diameter shaft के diameter के दूसरें तथा आपस में बराबर होते है.

(ii). Split Muff Coupling

यह दो अलग-2 बने अर्ध बेलनाकार शकल के muff होते है. इनके आवश्यकतानुसार bolt को फिट करने के लिए छोर बनें होते है. इन दोनों अर्ध बेलनाकार muff के बीच shaft के दोनों छोर मिलाकर इन दो टुकड़ो को जोड़ दिया जाता है, और इन दोनों shaft तथा muff को आपस में sunk key द्वारा जोड़ दिया जाता है. इस प्रकार की कपलिंग स सबसे अधिक लाभ यह की इसे आवश्यकता पड़ने पर pulley की भांति प्रयोग किया जाता है.

Comments

Popular posts from this blog

1.1. introduction of Drawing ड्राइंग की परिभाषा पूरी जानकारी हिंदी में

1.2. introduction of Engineering Drawing and instruments इंजीनियरिंग ड्राइंग और उपकरण का परिचय

3. Convention Line in hindi सभी प्रकार की रेखाओ की जानकारी हिंदी में |