8. Projection of Solids and types of Solid in Engineering Drawing

Share:
projection-of-solids-in-engineering-drawing

INTRODUCTION :- वह Solid आकृति जो तीन Size से घिरी हो या बनी होती हैं अथार्त जिस आकृति में Length,Width and Height होती है और दो या दो से अधिक समतलो या वक्र तलो से मिलकर बनी हो वह Solids कहलाती है | किसी भी Solid को Drawing में show करने के लिए कम से कम दो view बनाने पड़ते हैं और कभी-2 आवश्यकतानुसार दो से अधिक Vertical line view भी बनाए जा सकते हैं जिसमे Solid की Shape को पूर्णरूप से दर्शाया जा सकता हैं |

इंजीनियरिंग ड्राइंग में ठोस के प्रकार - Types of Solid in Engineering Drawing 

विभिन्न ठोसो को समतल तलो और वर्गाकार तलो के base पर मुख्यत निम्न दो भागो में वर्गीकृत किया जा सकता हैं |

POLYHERAGONAL SOLID (वहुफलक ठोस) :- वह ठोस जो तीन या तीन से अधिक फलको या तलो से मिलकर बने होते हैं वह वहुफलक ठोस कहलाते हैं | यह ठोस समान या असमान को मिलाकर बनाए जाते हैं इसलिए इन्हे समतल ठोस भी कहते हैं | यदि किसी वहुफलक ठोस के सभी फलक बराबर तथा regular हो तो ऐसे ठोसो को regular polyhedragonal कहते हैं |

REGULAR POLYHEDRA :-सम बहुफलक निम्न पाच प्रकार के होते हैं |

(i).CUBE (घन) :- इसमे छ: वर्गाकार फलक होते हैं |

(ii). TETRAHEDROM (चतुर्थ फलक) :- इसमे चार समत्रिबाहु फलक होते हैं |

(iii). OCTANEDROM (अष्ट फलक) :- इसमे आठ समत्रिबाहु फलक होते हैं |

(iv).DODECAHEDROM (द्वादश) :- इसमे 12 समपंच भुजाकर फलक होते हैं |

(v).ICOSAHEDROM (विशफलक) :- इसमे 20 समात्रिबाहु फलक होते हैं |

Projection of Solids and types of Solid in Engineering Drawing.

PRISM :- Prism ऊपर तथा नीचे के दो समतल फलक एक समान्तर होते हैं | जबकि इनके Perpendicular फलक आयताकार shape में होती हैं | इस प्रकार जितनी भुजाओ के ऊपर तथा नीचे के फलक होते है उतने ही Perpendicular आयताकार फलक होते हैं और ऊपर अथवा नीचे के आधार फलक की भुजाओ के अनुसार ही prism को वर्गाकार, त्रिभुजाकार और पचभुजाकर आदि नामो से जाना जाता हैं |

PYRAMID :-इसमे base फलक समतल और बहुभुज shape में होते है जबकि अन्य फलक जो की त्रिभुजाकार shape में बने होते है | शीर्ष पर आकार एक point पर मिलते हैं इसे बिंदु (vertex or appex) कहते हैं और base फलक के केंद्र बिंदु से vertex को मिलाने वाली केंद्र रेखा pyramid की axis कहलाती है | इस solid के सभी त्रिभुजाकार face base face के साथ झुके होते है | और base face को भुजाओ की shape के अनुसार ही pyramid को square, pentagonal त्रिभुजाकार और षटभुजाकर आदि नामो से जाना जाता है |

CYLINDRICAL AND CERCULER SOLID :- वह solid जो curved तल से गिरकर बने होते है | cylindrical solid निम्न प्रकार के होते है |

(i) CYLINDER :- यदि किसी rectangle की एक arm (भुजा) इसकी second arm के चारो और चक्कर काटने दिया जाए तो इस प्रकार rectangle की भुजा को चारो और घुमाने से जो solid shape बनती है उसे cylinder कहते है | cylinder के दोनों सिरों के point बिंदु को मिलाने वाली line axis कहलाती है |

(ii) CONE (शकु) :- यदि किसी right angle triangle की perpendicular भुजा को triangle के चारो और घुमाया जाए तो इस प्रकार घुमाने के पश्चात जो shape प्राप्त होती है उसे शकु( cone) कहते है |इसके वृताकार base के केंद्र बिंदु से vertex को मिलाने वाली केंद्र line cone की axis कहलाती है | और यह line cone की वास्तविक shape को repersecutation करती है |

(iii) SPHERE (गोला) :- यदि किसी अर्धगोलाकार circle के decimeter को चारो side की तरफ से घुमाया जाए तो इस प्रकार घुमाने से जो ठोस shape प्राप्त होती है वह sphere (गोला) कहलाती है | क्योकि यह गोलाकार shape में प्राप्त shape होती है

(iv) FRUSTUM (छिन्न्क) :- यदि किसी cone और pyramid को उनके base तल के समान्तर किसी cutting plane से कटा जाए तो ऊपर के कटे हुए भाग को करने के पश्चात जो भाग शेष रह जाता है वो cone और pyramid का frustum कहलाता है |   

No comments